Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

मंदिर भले ही न बनाओ पहले बंदर भगाओ

आगराः बुरा हाल है इस वक्त आगरा महानगर सहित निकटवर्ती देहाती इलाकों का क्योंकि अचानक बीते दिनों बढ़े बंदरों के आतंक से समूचा क्षेत्र दहशत में है। अब तक करीब एक दर्जन मौत बदरों के हमलों से हो चुकी हैं।

आतंक का आलम यह है कि शहर के पुराने इलाके हों या नई बसी कॉलोनियां या फिर देहाती क्षेत्र, सभी जगह बंदरों का कब्जा होता जा रहा है।बंदरों के उत्पात की खबरें तो बहुत सबने सुनी हैं पर यहां अब बंदर इंसानों पर हमला करने लगे हैं।

आमतौर पर बंदर को शाकाहारी माना जाता है। पर कुछ हमलों की वारदातों में बंदरों के द्वारा नरभक्षी के रूप में इंसान के शरीर से मांस तक नोच लेने की घटनाएं अब सामने आने लगी हैं।बीते 8 दिनों में ही शहर में बंदरों के हमले से 6 मौतें हो चुकी हैं।

आगरा हिन्दूवादी संगठनों का गढ़ माना जाता है और अयोध्या में मंदिर निर्माण को लेकर शहर में भी सुगबुगाह जारी है पर अब वही हिन्दूवादी संगठन इस आपदा से निपटने के लिए गुहार लगा रहे हैं कि मंदिर भले ही मत बनाओ पहले बंदरों को भगाओ।

बंदर को हनुमान भगवान का अवतार माना जाता है और वर्तमान आगरा शहर व निकटवर्ती इलाके लंका जैसे दृश्य दिखने लगे हैं। प्रशासन कोशिश् कर रहा है इस आपदा से निपटने के लिए पर हर कोशिश नाकाफी साबित हो रही है।

वन विभाग की टीमें बंदरों की बढ़ती संख्या व उनकी चपलता और हिंसक होती कार गुजारियों को रोकने में पूरी तरह असफल साबित हो रही हैं।शहर के मेयर,जिलाधिकारी व नगर पुलिस अधीक्षक सभी इसको बड़ी समस्या मानते हैं पर उपाय किसी को भी नहीं सूझ रहा कि वानर सेना की दहशत से क्षेत्र को कैसे सुरक्षित किया जाए।

बंदर अब न भारतीयों को देख रहे हैं न ताजमहल देखने आने वाले विदेशी पर्यटकों को। बंदरों के हमले ताजमहल व अन्य शहर के पर्यटन स्थलों पर विदेशियों के उपर होना आम बात हो चुकी है।ताजमहल की सुरक्षा में लगे जवान भी अब बंदरों को भगाते नजर आते हैं।

अपनी सुरक्षा अपने हाथ की तर्ज पर कई मोहल्लों व गांवों में सुरक्षा समितियों का गठन हो गया है क्योंकि ये आतंकवादी बन चुके बंदर अब दिन में ही नहीं रातों को भी घरों में प्रवेश कर चीजों को नुकसान पहुंचाने लगे हैं और खाने को न मिलने पर सोते हुए लोगों पर हमले भी करने लगे हैं।

गौरतलब है कि शहर व जिले की 9 विधानसभा सीटों पर सभी भारतीय जनता पार्टी के विधायक हैं व सांसद भी आगरा शहर व आगरा देहात की सीट पर भारतीय जनता पार्टी के हैं। नगर निगम में मेयर भी भारतीय जनता पार्टी के हैं।राम मंदिर निर्माण की हलचलों को लेकर शहर में भी सुगबुगाहट है लेकिन राम मंदिर से पहले अब घर-घर से आवाज आ रही है कि मंदिर भले ही न बनाओ पहले बंदर भगाओ।

 

Last modified onTuesday, 27 November 2018 05:03
back to top

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.