Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

राजस्थान का रण जीतना आसान नहीं है कांग्रेस के लिए

देश में चुनावी माहौल है क्योंकि बहुप्रतिक्षित 3 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तिथि नजदीक आ रही है।चुनावी सर्वे और प्रत्याशियों की सूचियां जारी होने लगी हैं।

चुनावों में सबसे रोमांचक चुनाव राजस्थान राज्य का माना जा रहा है क्योंकि वहां की वसुन्धरा राजे की सरकार के दोहरने की उम्मीद को अभी तक आए सर्वे नकार रहे हैं।परिस्थितियां अजीबो गरीब हालात से गुजर रही हैं लेकिन भारतीय जनता पार्टी पूरी तरह आश्वस्त है कि राजस्थान में भाजपा को कोई खतरा नहीं है।

वसुन्धरा राजे को एक सख्त प्रशासक के रूप में जाना जाता है और राजस्थान में विकास की जो गति है व वर्तमान राजस्थान ने बीते 5 साल में विकास का चहुमुंखी आंकड़ा प्राप्त किया है वो भी दिखता है।

राजधानी जयपुर हो या बड़े शहर जोधपुर, अजमेर, कोटा अथवा उदयपुर में बीते 5 साल में जीवन स्तर व शिक्षा के स्तर के साथ जन सुविधाओं में प्रगति होना वसुन्धरा सरकार की उपलब्धियां गिनाता है।

कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी की चुनाव पूर्व व चुनाव घोषणा के बाद टिकट वितरण में हुई अंतर्कलह का फायदा उठाना चाहती है जबकि भीतरघात कांग्रेस में भी कम नहीं हैं।

मुख्यमंत्री चेहरे के रूप में सचिन पायलट को युवा चेहरा के रूप में पार्टी प्रचारित कर रही है लेकिन वरिष्ठ अशोक गहलोत का कोई तोड़ नहीं है।

सचिन पायलट को मात्र 21 फीसदी लोग प्रदेश की पसंद मान रहे हैं।

राहुल गांधी के प्रचार में मुद्दों की जगह आरोप ज्यादा होते हैं जो कि जनता को मजाक लगते हैं क्योंकि राजस्थान ने विकास किया है।

वसुन्धरा राजे अभी भी मुख्यमंत्री के रूप में राज्य के लोगों की पहली पसंद 36 फीसदी के साथ बनी हुई हैं जबकि अशोक गहलोत को करीब 30 फीसदी लोग मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं।

सबसे अहम पहलू इस बार बहुजन समाज पार्टी के द्वारा राजस्थान में बड़ी संख्या में अपने प्रत्याशी उतारना है जो कि जीतें या न जीतें लेकिन कांगेस का खेल बिगाड़ते जरूर दिख रहे हैं।

राजस्थान का इतिहास रहा है कि वहां की जनता ने प्रत्येक 5 साल में सरकार बदली है पर इस बार इतिहास खुद को दोहराता है या खुद इतिहास बन जाता है यह देखना रोचक होगा क्योंकि राज्य की पूरी 26 लोकसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है और भाजपा की संगठनात्मक शक्ति का मतदाताओं को खींचना एक बड़ा खाका खींचता रहा है।

 

Last modified onWednesday, 28 November 2018 05:36
back to top

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.