Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

बिना फ्रंट कैमरे के 45 लाख सरकारी मोबाइल छत्तीसगढ़ में बंटना शुरू

रायपुर: बजट में बीपीएल महिलाओं और युवाओं को 45 लाख स्मार्ट फोन बांटने की मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह की घोषणा के अगले ही दिन प्रदेश के आला अफसरों ने देश के इस पहले प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया है। संकेत मिले हैं कि सरकारी तौर पर बांटा जाने वाला स्मार्ट फोन 2 हजार रुपए के बेस प्राइज (टैक्स वगैरह को छोड़कर) वाला हो सकता है।

राजधानी के बाजार में जो ब्रांडेड स्मार्ट फोन उपलब्ध हैं, टैक्स वगैरह छोड़ दिया जाए तो उनकी कीमत इससे कुछ ज्यादा है लेकिन लोकल कंपनियों के कई मॉडल इस रेट पर भी हैं। भास्कर टीम ने बाजार में पता लगाया कि जिस बेस प्राइस के फोन बांटे जा सकते हैं, उनके फीचर्स क्या होंगे ? यह साफ है कि इस कीमत के फोन भी कई सुविधाएं उपलब्ध करवाएंगे और रियर कैमरा भी अच्छा हो सकता है, लेकिन फ्रंट कैमरे की संभावना कम है। यानी, इस सरकारी फोन से संभवत: सेल्फी नहीं ली जा सकेगी।

महिलाओं को स्मार्ट फोन बांटने की योजना से मोबाइल मार्केट और यूजर्स में चर्चाएं तेज हो रही हैं। यह संकेत मिलने के बाद कि 2 हजार रुपए बेस प्राइज वाले स्मार्टफोन बांटे जा सकते हैं, भास्कर टीम ने बाजार में इस कीमत पर मिलनेवाले फीचर्स की पड़ताल की। रायपुर के बाजार में अभी 2 से चार हजार के स्मार्ट फोन उपलब्ध हैं। इस हैंडसेट में अधिकतम एक जीबी तक रैम है और पांच मेगा पिक्सल वाला कैमरा भी है। जानकारों के अनुसार इस कीमत पर इस फोन में फ्रंट कैमरा रखना संभव नहीं है। ऐसे में इनसे सेल्फी नहीं ली जा सकेगी। इसके अलावा यह फोन सारे जरूरी फीचर्स से लेस हो सकता है।

Read more...

500 से अधिक नक्सिलयों ने 50 ट्रकों को फूंक दिया

रायपुर:  गढ़चिरौली एरिया में गुरुवार को माओवादियों ने जमकर उत्पात मचाया। रात को तकरीबन 500 नक्सली एटापल्ली डिविजन की सुरजागढ़ पहाड़ी से लगी आयरन ओर की खदान पर पहुंचे। यहां उन्होंने 50 ट्रकाें को आग के हवाले कर दिया।वहीं मजदूरों और चालकों को काम न करने की धमकी भी दी। दूसरी तरफ खड़गांव इलाके में गुरुवार देर रात पुलिस और नक्सलियों के बीच फायरिंग हो गई। लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर जंगल के रास्ते माअोवादी भाग निकले। इसके बाद सर्चिंग के दौरान पुलिस पार्टी ने मौके से पिट्‌ठू, बैनर-पोस्टर, गोलियां आदि बरामद की। वनांचल में पुलिस लगातार सर्चिंग कर रही है। इसी सप्ताह जिले में तीन मुठभेड़ हो चुकी है। उसमें माओवादियों का काफी नुकसान हुआ है। वहीं गुरुवार को हुई फायरिंग के बाद मौकेे पर खून के धब्बे भी मिले हैं, जिससे माओवादियों को गोली लगने की आशंका भी जताई जा रही है।पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार ई-30 पार्टी गुरुवार को खड़गांव के जंगल में सर्चिंग के लिए निकली। रात तकरीबन 10 बजे टीम कोपेनकड़का के जंगलों में पहुंची ही थी कि माओवादियों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। इस पर जवानों ने भी पोजिशन ली और गोली चलाई। बताया गया कि दोनों ही ओर से तकरीबन आधे घंटे तक गोलीबारी हुई। उसके बाद माओवादी भाग गए। इस दौरान 18 से 20 नक्सली थे। बताया गया कि नक्सली यहां कैंप करने की तैयारी में थे। लेकिन लोकेशन मिलने के बाद पुलिस पार्टी वहां पहुंच गई और माओवादी गोलीबारी कर वहां से निकल गए।नक्सली शुरू से ही पल्लेमाड़ी में संचालित गोदावरी और शारदा माइंस की खिलाफत में है। उसे लेकर उन्होंने बैनर-पोस्टर भी बनाए थे। उसे भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। बताया गया कि बैनर में माओवादियों ने खदानों को बंद करने की बात लिखी है। वहीं वनांचल की जमीन पर आदिवासियों का हक होना बताया है। इससे पहले भी इस तरह के पोस्टर वनांचल में चस्पा मिले थे। इधर पुलिस ने माओवादियों की मौजूदगी को देखते हुए सर्चिंग तेज कर दी है। 

Read more...

छत्तीसगढ़ पुलिस ने शुरू किया ऑन लाइन FIR पोर्टल

रायपुर: अब राज्य के किसी भी थाने में किसी के भी खिलाफ दर्ज रिपोर्ट अब मोबाइल या कंप्यूटर पर देखी जा सकती है। इसके लिए पुलिस के पोर्टल पर जाना होगा। क्राइम एंड क्रिमनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम (सीसीटीएनएस) के तहत छत्तीसगढ़ पुलिस ने अपना वेब पोर्टल तैयार किया है। इसमें सभी जिलाें के थानों में 17 नवंबर के बाद से दर्ज केस देखे जा सकते हैं। पोर्टल में दिसंबर के पहले हफ्ते से FIR को ऑनलाइन कर दिया गया है। इसे कुछ दिनों तक ट्रायल पर रखा गया था। अब इसमें रोज थानों में दर्ज की जा रही FIR को अपलोड किया जा रहा है।पुलिस अफसरों ने दावा किया है कि राज्य के सभी जिलों को इस सिस्टम से जोड़ दिया गया है। किसी भी थाने में दर्ज हो रही FIR 24 घंटों के भीतर अपलोड कर दी जा रही है।अफसरों के अनुसार रायपुर ही नहीं धुर नक्सल प्रभावित सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा के थानों में भी दर्ज FIR आसानी से अपलोड हो रही हैं।यह सिस्टम भी बनाया गया है कि जहां जिस थाने में नेटवर्क की समस्या है वहां ऑफ लाइन FIR दर्ज की जा रही है।प्रार्थी की रिपोर्ट कंप्यूटर पर एंट्री कर उसे पेन ड्राइव में अपलोड कर मुख्यालय भेजा जाता है। उसके बाद उसे ऑन लाइन किया जा रहा है। इस तरह हर थानों को किसी न किसी सिस्टम से कवर किया जा रहा है।

 

Read more...

रायपुर के मंदिर में दान के लिये लगी स्वाइप मशीन

रायपुर:एक ओर देश करेंसी के लिये परेशान है तो मंदिरों ने भी खुद को डिजिटल बनाना शुरू कर दिया है।  नोटबंदी का असर मंदिरों में दिए जानेवाले दान पर भी पड़ता दिख रहा है। छत्तीसगढ़ के रायपुर में स्थित बंजारी  मंदिर भी नोटबंदी के असर से अछूता नहीं हैं। रायपुर के बंजारी मंदिर ने दान देनेवाले श्रद्धालुओं को इसके लिए स्वाइप मशीन की सुविधा दी है। दरअसल इस मंदिर में नोटबंदी के बाद चढ़ावा कम हो गया है। लिहाजा मंदिर प्रबंधन ने इसका उपाय ढूंढा और स्वाइप मशीन लगा दी जिसके जरिए मंदिर में आनेवाले श्रद्धालु दान दे सकेंगे।

मंदिर प्रबंधन ने भक्तों की तकलीफ और मांग को देखते हुए स्वाइप मशीन लगाने का निर्णय लिया। बताया जा रहा है कि मंदिर प्रबंधन ऑनलाइन डोनेशन की सुविधा भी जल्द शुरू करने जा रहा है। गौर हो कि 8 नवंबर को केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद 500 और 1000 के नोट अमान्य हो चुके है। 500 रुपये का नया नोट और 2000 रुपए का नोट जारी किया जा चुका है।  

Read more...

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.