Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

नेपाल में 5.0 के भूकंप से उत्तर भारत में फिर खतरा बढ़ा

काठमांडू: हिन्दी गौरव के नेपाल संवाददाता गुरूसेवक सिंह गौर्या की रिपोर्ट के अनुसार जिस प्रकार से बीते 2 दिनों में मणिपुर और आयाम के क्षेत्रों में भूकंप के झटके महसूस किये गये हैं उससे संवेदनशील बैल्ट पर नेपाल और उत्तराखंड के साथ पाकस्तान और अफगानिस्तान क्षेत्र में फिर एक बार तेज भूकंप के आने की संभावना प्रबल हो गई है।

त्रिकोणीय क्षेत्र के यह पूरा संभाग भूकंप की त्रासदी के लिये बेहद संवेदनशील माना जाता है और इस क्षेत्र से लगे उततर भारत के क्षेत्र में भी अब बड़ा भूकंप निश्चित माना जा रहा है जो कि बड़ी बरबादी को अंजाम दे सकता है।  नेपाल में सोमवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.0 मापी गई है। अभी तक किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।बीते साल भूकंप की भीषण त्रासदी झेल चुके नेपाल में आज सुबह भूकंप के झटके लगने के बाद लोग भयभीत होकर अपने घरों से बाहर निकल आए।भूकंप का केन्द्र कोडारी था जो कि काठमांडू से ज्यादा दूर नहीं है। 

Read more...

दूसरे चरण व उत्तराखंड के मतदान के लिये भारत-नेपाल सीमा 72 घंटों के लिये सील

काठमांडू: हिन्दी गौरव के नेपाल संवाददाता गुरूसेवक सिंह गौर्या  की रिपोर्ट के अनुसार कंचनपुर जिले में नेपाल-भारत सीमा पर स्थित चौकियों को रविवार शाम से 72 घंटे के लिए सील कर दिया गया है. यह कदम भारत में हो रहे विधानसभा चुनावों के मद्देनजर उठाया गया है. हिमालयन टाइम्स के मुताबिक, पश्चिमी चौकियों-गड्डाचौकी और ब्रह्मदेव- को रविवार शाम से बंद कर दिया गया है और दोधरा चंदानी और बेलौरी चौकियों को सोमवार शाम से सील कर दिया जाएगा.

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को मतदान होने हैं. नेपाल की सीमा से लगे उत्तर प्रदेश के हिस्से में दूसरे चरण के तहत 15 फरवरी को मतदान होने हैं.

कंचनपुर के पुलिस उपाधीक्षक नैनसिंह कार्की ने कहा कि बेलदांडी और त्रिभुवन बस्ती में नेपाल-भारत चौकियां मंगलवार शाम से बंद रहेंगी और इन्हें बुधवार शाम पांच बजे के बाद फिर से खोल दिया जाएगा.उन्होंने कहा कि सीमा चौकियों को बंद करने का फैसला मतदान के दौरान किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए किया गया है. नेपाल के सीमावर्ती इलाकों में भारतीय पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है.

Read more...

कानपुर रेल हादसे का आतंकी भारत को नहीं सौंपेगा नेपाल

काठमांडूः हिन्दी गौरव के नेपाल संवाददाता गुरूसेवक सिंह गौर्याकी रिपोर्ट के अनुसार कानपुर के पुखरायां रेल हादसे का मुख्य साजिशकर्ता एवं पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आइइसआइ के लिए काम करने वाले शमशुल होदा को नेपाल लेने गई भारतीय अधिकारियों की टीम को निराशा हाथ लगी है। नेपाल प्रशासन ने उसे सौंपने से इंकार कर दिया है।

उनका कहना है कि शमशुल होदा के ऊपर नेपाल के बारा में हत्या का मुकदमा दर्ज है। उसका मुकदमा नेपाली अदालत में विचाराधीन है, ऐसे में उसे भारतीय अधिकारियों को नहीं सौंप सकते। हालांकि भारतीय अधिकारियों ने इस संबंध में नेपाल सरकार को अवगत करा दिया है। दोनों देश के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच वार्ता चल रही है।

नेपाली प्रशासन से जुड़े अधिकारियों के अनुसार पुखराया रेल हादसे के मास्टर माइंड शमशुल होदा को लेने के लिए नई दिल्ली से वरिष्ठ अधिकारियों की टीम गुरुवार को नेपाल गई। नेपाल के वरिष्ठ अधिकारियों से मिलकर शमशुल होदा को रेल दुर्घटना का मुख्य आरोपी होने का दावा किया। नेपाल प्रशासन ने शमशुल होदा को भारत को सौंपने से इंकार कर दिया। नेपाली प्रशासन ने बताया कि शमशुल के ऊपर बारा के न्यायालय में हत्या का केस दर्ज है।

 

Read more...

ISI एजेंट शमशुल ने खोले राज, भारत में तबाही के लिये मिले थे 3 करोड़

काठमांडूः हिन्दी गौरव के नेपाल संवाददाता गुरूसेवक सिंह गौर्या की रिपोर्ट के अनुसारकाठमांडू में गिरफ्तार आइएसआइ एजेंट शमसुल होदा ने नेपाल पुलिस की पूछताछ में कई राज खोले हैं। उसने कहा कि भारत के सीमाई क्षेत्रों में तबाही मचाने के लिए तीन करोड़ रुपये सिर्फ गिरोह पर खर्च करने को मिले थे। इरादा भारतीय रेल को निशाना बनाना और देश में जानमाल को क्षति पहुंचाना था।

विदित हो कि बीते दिनों बिहार के घोड़ासहन में रेल ट्रैक को बम से उड़ाने की आतंकी साजिश नाकाम कर दी गई थी। इसके बाद आतंकियों ने कानपुर में ट्रैक को विस्फोट से उड़ाकर दो ट्रेनों को दुर्घटनाग्रस्त किया, जिनमें एक इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना में जान-माल की भारी क्षति हुई। जांच के क्रम में इनके पीछे आइएसआइ का हाथ होने का पता चला। आइएसआइ दुबई के बिजनेसमैन शमशुल होदा के माध्यम से ऑपरेट कर रही थी।

 

Read more...

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.