Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

उत्तरी ग़ज़्ज़ा पट्टी पर इस्राईल ने किया हमला

येरूशलमः हिन्दी गौरव की इजरायल संवाददाता रचेल एलाइस की रिपोर्ट के अनुसारग़ज़्ज़ा पट्टी में फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ताओं के ठिकानों पर ज़ायोनी सैनिकों ने मार्टर गोलों से हमला किया।फ़िलिस्तीन की  एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार इस्राईली सैनिकों ने गुरुवार की शाम ग़ज़्ज़ा पट्टी के उत्तरी क्षेत्र उत्तरी बैते लाहिया में फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ताओं के ठिकानों पर मार्टर गोलों से हमला किया।

प्रत्यक्ष दर्शियों के अनुसार हमास की सैन्य शाखा इज़्ज़ुद्दीन क़स्साम ब्रिगेड के दो वाॅच टावर की ओर छह मार्टर गोले फ़ायर किए गये।इस हमले के साथ ही इस्राईली युद्धक विमानों ने ग़ज़्ज़ा पट्टी के आसमान पर उड़ानें भरी और लोगों में भय पैदा करने के लिए अकारण ही कई मीज़ाइल फ़ायर किए।

इससे पहले इस्राईली सैनिकों ने घोषणा की थी कि उत्तरी ग़ज़्ज़ा की सुरक्षा दीवार के निकट तैनात सैनिकों की गाड़ी पर ग़ज़्ज़ा पट्टी से फ़ायर किया गया जिसमें गाड़ी को नुक़सान पहुंचा है। 

Read more...

स्वतंत्र फिलिस्तीनी देश के गठन की अनुमति नहीं दी जायेगीः इस्राईल

येरूशलमः हिन्दी गौरव की इजरायल संवाददाता रचेल की रिपोर्ट के अनुसार फिलिस्तीनी प्रशासन के वरिष्ठ वार्ताकार साएब उरैक़ात ने इस पत्र के जवाब में कहा है कि फिलिस्तीनी प्रशासन जायोनी शासन को मान्यता प्रदान करने के बारे में अपने फैसले को वापस ले लेगा।

जायोनी शासन ने घोषणा की है कि वह किसी भी स्थिति में एक स्वतंत्र फिलिस्तीनी देश के गठन की अनुमति नहीं देगा।जायोनी शासन ने फिलिस्तीन की स्वशासित सरकार और जार्डन की राजधानी अम्मान में अपने एक विशेष दूत के माध्यम से एक पत्र भेजा था जिसमें स्पष्ट किया था कि वह किसी भी स्थिति में एक स्वतंत्र फिलिस्तीनी देश के गठन की अनुमति नहीं देगा और अब दो सरकारों के गठन का विषय समाप्त हो गया हैइसी परिप्रेक्ष्य में फिलिस्तीनी प्रशासन के वरिष्ठ वार्ताकार साएब उरैक़ात ने इस पत्र के जवाब में कहा है कि फिलिस्तीनी प्रशासन जायोनी शासन को मान्यता प्रदान करने के बारे में अपने फैसले को वापस ले लेगा।

जायोनी शासन द्वारा एक स्वतंत्र फिलिस्तीनी देश के गठन के विरोध से सबसे अधिक यह वास्तविकता स्पष्ट होती है कि यह शासन पूर्णरूप से फिलिस्तीनियों के अधिकारों को हड़प लेने की चेष्टा में है और यह शासन इसी लक्ष्य के परिप्रेक्ष्य में विभिन्न बहानों से एक स्वतंत्र फिलिस्तीनी देश के गठन का विरोध कर रहा है।अलबत्ता जायोनी शासन के समर्थन के संबंध में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की जो नीति है उससे जायोनी शासन का दुस्साहस और बढ़ गया है और फिलिस्तीन विशेषकर यहूदी कालोनियों के निर्माण और तेलअवीव से अमेरिकी दूतावास को बैतुल मुकद्दस स्थानांतरित करने के संबंध में ट्रंप का जो दृष्टिकोण है उससे फिलिस्तीनी जनता के प्रति अमेरिकी अधिकारियों की दुश्मनी स्पष्ट हो गयी है।रोचक बात यह है कि सयुंक्त राष्ट्रसंघ ने फिलिस्तीनी जनता के समर्थन में कई प्रस्ताव पारित किये हैं जिनमें फिलिस्तीनी जनता के अधिकारों के समर्थन पर बल दिया गया है।संयुक्त राष्ट्रसंघ के प्रस्ताव नंबर 194,394,1604,2154,2672 और 3070 को इसी परिप्रेक्ष्य में देखा जा सकता है।

Read more...

इस्राईली संसद में प्रधानमंत्री से अपना पद छोड़ने की मांग उठी

येरूशलमः हिन्दी गौरव की इजरायल संवाददाता रचेल की रिपोर्ट के अनुसार इस्राईली संसद में ज़ायोनिस्ट यूनियन गठजोड़ के प्रमुख ने ज़ायोनी प्रधानमंत्री से अपना पद छोड़ने की मांग की है।ज्ञात रहे कि हाल ही में सामने आने वाली एक आॅडियो फ़ाइल में ज़ायोनी शासन के प्रधानमंत्री बेनयामिन नेतनयाहू को एक समाचारपत्र के मालिक को उनकी छवि सकारात्मक बना कर पेश करने के बदले में रिश्वत की पेशकश देते हुए सुना जा सकता है। इस्राईली पुलिस दो बार नेतनयाहू से पूछताछ कर चुकी है और उसने उनके इस्राईल से बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगा दिया है। नेतनयाहू पर इसी तरह व्यापारियों से दसियों हज़ार डाॅलर के उपहार लेने का भी आरोप है। इस्हाक़ हर्ज़ोग ने इस्राईली संसद में, बेनयामिन नेतनयाहू द्वारा एक समाचारपत्र को उनकी सकरात्मक छवि पेश करने के बदले में रिश्वत देने की पेशकश की ओर संकेत करते हुए कहा कि उन्होंने मंत्रीमंडल के क़ानूनी सलाहकार से कहा है कि वे नेतनयाहू को उनके पद से हटा दें। हर्ज़ोग ने कहा कि अगर उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे उच्च न्यायालय का रुख़ करेंगें।

 

Read more...

इजरायल ने भारत को नव वर्ष पर आतंकवादी हमलों के लिये सतर्क किया

यरूशलम: हिन्दी गौरव की इजरायल संवाददाता रचेल की रिपोर्ट के अनुसार इजरायल ने भारत में पश्चिमी देशों के पर्यटकों के लिए आज एक ‘तत्काल एवं गंभीर’ यात्रा चेतावनी जारी की। इजरायल ने यह चेतावनी नववर्ष समारोहों के दौरान विशेष तौर पर देश के दक्षिण..पश्चिम हिस्से में पर्यटन स्थानों पर हमले के तत्काल खतरे का उल्लेख करते हुए जारी की।प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में इजरायल के आतंकवाद निरोधक निदेशालय ने कहा, ‘‘हम भारत में इजरायली पर्यटकों को पश्चिमी देशों के पर्यटकों वाले स्थलों और पर्यटकों को तत्काल आतंकवादी हमले की आशंका के प्रति चेतावनी दे रहे है, विशेष तौर पर देश के दक्षिणपश्चिम हिस्से में।’’ चेतावनी में कहा गया, ‘एक विशेष जोर आने वाले दिनों में समुद्री तट पर नववर्ष मनाने के लिए आयोजित जश्नों और क्लब पार्टियों पर दिया जाना चाहिए जहां पर्यटकों की संख्या काफी अधिक रहेगी।’ इसमें कहा गया कि देश के दक्षिण पश्चिम हिस्से पर विशेष खतरा है जिसमें गोवा, पुणे, मुम्बई और केाच्चि जैसे छुट्टी मनाने वाले लोकप्रिय स्थान आते हैं।

Read more...

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.