Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

मिस्र में ट्रेनों की आमने-सामने की टक्कर में 37 मरे

काहिरा/

हादसा अपराह्न दो बजकर 15 मिनट पर हुआ। खोरशिद स्टेशन के पास दोनों की आमने-सामने की टक्कर हुई। हादसे के बाद बचाव कार्य तत्काल प्रभाव से शुरू कर दिया गया। राष्ट्रपति ने हादसे पर शोक जताते हुए इसके पीछे के कारणों की तलाश करने का आदेश दिया है। हादसा इतना जबरदस्त था कि अभी तक लोग बोगियों में फंसे हुए हैं।

एक ट्रेन मिस्र की राजधानी काहिरा से आ रही थी और दूसरी ट्रेन पोर्ट सैद से आ रही थी। खुर्शीद इलाके में दोनों ट्रेनों की टक्कर हो गई। स्वास्थ्य मंत्री के सलाहकार शरीफ वादी ने बताया कि हताहतों की संख्या बढ़ रही है। उन्होंने कहा, 'फिलहाल 109 लोग घायल हैं। इसमें कुछ गंभीर रूप से भी घायल भी शामिल हैं। घायलों को समीपवर्ती अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।'

स्वास्थ्य मंत्रालय में अवर सचिव मागदी हेगाजी ने बताया, 'बचाव दल जीवित बचे लोगों की तलाश कर रहा है। घायलों को ऐंबुलेन्स के जरिये समीपवर्ती अस्पतालों में ले जाया जा रहा है।'

Read more...

तख्तापलट के छह साल बाद जेल से रिहा हुए होस्नी मुबारक

काहिरा: मिस्र के पूर्व प्रेसिडेंट होस्नी मुबारक को छह साल बाद जेल से रिहा कर दिया गया है। वे शुक्रवार को मिलिट्री हॉस्पिटल से अपने घर पहुंचे। 30 साल से सत्ता में काबिज मुबारक को 2011 में लंबे समय तक चले विरोध प्रदर्शन के बाद पद से हटा दिया गया था। मिस्र के उस विरोध प्रदर्शन को दुनिया ने “अरब क्रांति’ का नाम दिया था।

88 साल के मुबारक के वकीलों ने बताया कि पूर्व प्रेसिडेंट को सत्ता से हटाए जाने के छह साल बाद आजाद कर दिया गया है। वकीलों के मुताबिक अपील कोर्ट के एक जज ने 2015 में ही कहा था कि मुबारक को रिहा किया जा सकता है।

कोर्ट ने इसी महीने उनकी रिहाई के फैसले पर मुहर भी लगा दी। पर संभावित जनाक्रोश के डर से राष्ट्रपति अब्दुल फतह अल सीसी की सरकार उन्हें रिहा नहीं कर रही थी। सीसी, मुबारक के प्रशासन में उनके मिलिट्री इंटेलिजेंस चीफ थे। उन्होंने ही सैन्य तख्तापलट करके 2013 में प्रेसिडेंट बने मोहम्मद मोर्सी को अपदस्थ कर दिया था।

मुबारक पर दो अहम आरोप थे। पहला- अरब क्रांति के दौरान प्रदर्शन करने वालों पर गोली चलाने का आदेश देना। इस गोलीबारी में 800 से ज्यादा लोग मारे गए थे। निचली अदालत ने आरोप सही मानते हुए 2012 में उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई थी। पर अपीलीय अदालत ने उन्हें रिहा कर दिया। दूसरा आरोप सरकारी पैसों के गबन का था। निचली अदालत ने मुबारक और उनके दो बेटों को इस मामले में तीन साल कैद की सजा सुनाई थी। उनकी यह सजा पहले ही पूरी हो चुकी थी।

Read more...

मिस्र में दो आतंकी हमलों में 10 लोगों की मौत

काहिरा: मिस्र के अशांत उत्तरी सिनाई क्षेत्र में आतंकवादी संगठन आईएसआईएस से जुड़े भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने विस्फोटक से भरे ट्रक और रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रनेड आरपीजी की मदद से दो पुलिस चेकपोस्ट को निशाना बनाया जिसमें आठ पुलिसकर्मियों सहित 10 लोग मारे गए।गृहमंत्रालय की ओर से जारी बयान के अनुसार, अल-अरीश शहर के अल-मताफी चेकप्वाइंट पर करीब 20 आतंकवादियों ने हमला किया।दूसरे हमले में एक अन्य आतंकवादी संगठन ने अल-आरिश शहर के अल-मसीद चेकप्वाइंट को निशाना बनाया। सुरक्षा बलों ने हमले को विफल कर दिया, और आतंकवादियों को भागने पर मजबूर कर दिया। हमले में एक रंगरूट मारा गया। अल-मसीद चेकप्वाइंट पर यह हमला सिनाई के एक उग्रवादी संगठन अंसार बैत अल-मकदस के सदस्यों ने किया। इस संगठन ने 2014 में आईएसआईएस के प्रति अपनी वफादारी जताई थी। पूर्व राष्ट्रपति हुस्नी मुबारक को सत्ता से हटाने के लिए 2011 में शुरू हुए आंदोलन के बाद से मिस्र के उत्तरी सिनाई में आतंकवादी हमले बढ़ गए हैं।

Read more...

सीना प्रायद्धीप पर मिस्र की सेना की भीषण गोलाबारी, अनेकों हताहत

काहिराः सीना प्रायद्वीप में मिस्री सेना की दूसरे दिन लगातार भीषण बमबारी में कई आम नागरिक हताहत और घायल हो गए हैं।मिस्री सेना के तोपख़ाने ने दक्षिणी सीना प्रायद्वीप में स्थित शेख़ ज़वीद गांव पर भारी बमबारी की है।सूत्रों का कहना है कि इस बमबारी में कई घर नष्ट हो गए और दर्जनों लोग हताहत एवं घायल हो गए।इस बमबारी में मृतकों और घायलों की सही संख्या के बारे में अभी विस्तृत जानकारी प्राप्त नहीं हो सकी है।प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि घरों में अभी तक लाशें पड़ी हुई हैं और लोग अपने घरों से नहीं निकल पा रहे हैं। 

Read more...

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.