Menu
                   
RSS

You Are Visitor No.

web
statistics

बहुत विशेष बन गई है पीएम मोदी की आगरा रैली

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 09 जनवरी को आगरा से लोकसभा 2019 के लिए विजया अभियान की शुरूआत करने जा रहे हैं ये तो घोषित था और पूरे बृज में प्रधानमंत्री के लिए पलकें बिछी हुई हैं लेकिन जिस प्रकार रैली से 2 दिन पहले सवर्ण वर्ग के लिए जो आरक्षण घोषित हुआ उसने विरोधियों के मंसूबे तो ध्वस्त किये ही साथ ही जो नोटा समर्थक रहे थे वो भी अब पछता रहे हैं कि उनके द्वारा बीते दिनों देश के प्रधान सेवक के लिए जो कुछ नाराजगी में कहा गया वो ही उनको अब पछताने पर मजबूर कर रहा है। 

योजनाएं बनाई जाती हैं और देश के प्रधान सेवक के लिए राष्ट्रहित सबसे बढ़कर है और भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा व सोच में राष्ट्रहित कितना सुरक्षित होने के साथ अब समृद्ध भी हो रहा है और देश के प्रत्येक वर्ग व हर नागरिक के लिए प्रधानमंत्री की सोच को पहले गलत बताने वाले अब मुंह छिपाते नजर आ रहे हैं।

सोशल मीडिया पर इस बात को लेकर हाहाकार मचा हुआ है कि अब यह नोटा वाले किधर जाएं?

7 जनवरी के दो विशेष घटनाएं सामने आईं एक तरफ समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर सीबीआई के कसते शिकंजे पर बसापा प्रमुख मायावती की संवेदनाएं ने विरोधियों को एक नया आधार दिया था लेकिन कुछ ही घंटों की खुशी  उस वक्त काफूर हो गई जब देश के प्रधान सेवक प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी राष्ट्रहित सोच के साथ हर वर्ग के गरीब के लिए अपना 10 फीसदी आरक्षण घोषित करके राष्ट्रहित की बात को देश के सामने उजागर कर दिया।

औंधे मुंह गिरे सत्ता के लालचियों के लिए खुद का राजनीतिक आधार बचाने की जो कोशिश थी और स्यंव स्वार्थ के लिए गठजोड़ की जिस राजनीति को लेकर विरोधी एक दूसरे को सांत्वना देने की कोशिश कर रहे थे वो अब जनता के लिए एक नौटंकी से ज्यादा कुछ नहीं रहा है।जनता अब समझदार है और ठोस नेतृत्व के रूप में प्रधानमंत्री मोदी को ही 2019 में फिर से प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहती है। 

आगरा रैली लोकसभा विजय अभियान का श्रीगणेश है और आगरा से भारतीय जनता पार्टी का जो अभियान एक सामान्य रैली के रूप में शुरू होना था अब वो कितना विशालकाय बनता है और कौनसा नया इतिहास लिखता है यह 9 जनवरी को खुद दिखाई देगा क्योंकि अगर देश में हर-हर मोदी की गूंज है तो आगरा से एक नया नारा घर-घर मोदी शुरू होने जा रहा हे जो कि भारतीय जनता पार्टी कानहीं बल्कि अब राष्ट्रहित में जनता जनार्दन का नारा बनने जा रहा है। 

Read more...

ठंड के सभी कीर्तिमान इस बार टूट सकते हैं

सर्दियां शुरू हो चुकी हैं और उत्तर भारत सहित मैदानी इलाकों में तापमान में गिरावट लगातार जारी है। बीते एक सप्ताह पहले न्यूनतम तापमान करीब 18 डिग्री सैल्सियस से 20 डिग्री सैल्सियस हुआ करता था वो अब 10 डिग्री सैल्सियस के आस-पास आ चुका है। राजधानी दिल्ली व एनसीआर क्षेत्र में तो पारा छह से आठ डिग्री सैल्सियस तक गिर चुका है।

मेरठ, आगरा व जयपुर व सीकर में तापमान का पारा तेजी से गिरकर दिसम्बर के पहले ही सप्ताह में 5 डिग्री सैल्सियस के करीब दर्ज किया जा रहा है। मध्यप्रदेश के भोपाल व जबलपुर तक ठंड अचानक बढ़ चुकी है तो छत्तीसगढ़ व बिहार में अलाव जलाना शुरू हो चुका है।

धूप सेकते और आग पर हाथ सेकते व शरीर को गर्म बनाए रखने के लिए ऊनी वस्त्रों से ढके शरीर व कोहरे में गुजरते वाहनों से अब शीत का कहर नजर आने लगा है।

इस बार का शीतकाल भीषण होगा यह बात मौसम विभाग पहले ही घोषित कर चुका है। नवम्बर के पहले सप्ताह में ही पहाड़ी इलाकों में शुरू हुई बर्फवारी से इसकी आशंका जताई गई थी जो कि अब परिणाम के रूप में दिखाई दे रही है।

सूरज की तपिश कम होती जा रही है तो कोहरा व स्माॅग का मिश्रण अब सूरज के दर्शन दुलर्भ करवाने के लिए आतुर दिखाई दे रहा है।

इस बार की ठंड कितनी भीषण होगी इस बारे में कयास तो दीपावली के बाद से ही लगाए जा रहे थे जो कि परिणाम के रूप में सामने आने लगे हैं।

इस बार सर्दी क्या पुराने कीर्तिमान तोड़ेगी इस बारे में अपने कमेंट जरूर करें व हमको फाॅलो करके बदलते मौसम की हर जानकारी लेना न भूलें।

Read more...

राम मंदिर के लिए महत्वपूर्ण है इस बार की 6 दिसंबर

6 दिसम्बर 1992 को बाबरी ढांचा गिराया गया था और देश की राजनीति और सोच में एक ऐसा मोड़ आया जो कि आज तक कायम है।

बीते दिनों अयोध्या में बढ़ी हलचलों व भव्य दीपावली आयोजन के साथ फैजाबाद नाम को इतिहास बना देना व न्यायालय के फैसले की जगह हिन्दू संगठनों के ऐलान इस बार की 6 दिसम्बर तारीख को खास बना सकते हैं।

कई हिन्दूवादी संगठनों ने 6 दिसम्बर से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर अपनी रणनीतियों पर कार्य करना शुरू कर दिया है।बजरंग दल के जत्थे छोटे-छोटे समूहों में अयोध्या पहुंच तो रहे हैं लेकिन वापस नहीं लौट रहे यानि कार सेवा के लिए तैयारियां जोरों पर हैं। पत्थर व मूर्तियों के निर्माण के कार्यों में तेजी अचानक बढ़ी है।

सबसे ज्यादा कुछ बदला है वो है नेताओं के आत्मविश्वासी बोल।उत्तर प्रदेश के गंभीर रहने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज अपनी सभाओं व मीडिया में ऐलान करने से नहीं चूकते हैं कि " आप देखते जाइये" सब सामने खुद आ जाएगा।

एलआईयू की रिपोर्ट के अनुसार दीपावली से पूर्व अयोध्या पहुंचे करीब 80000 हिन्दूवादी संगठनों के कार्यकर्ता वापिस नहीं लौटे हैं।

मुस्लिम समाज से सहमति के लिए भारतीय जनता पार्टी व हिन्दुवादी संगठनों के प्रयासों में अचानक तेजी आ गई है।गौरतलब है कि हर वर्ष 6 दिसम्बर को हिन्दुवादी संगठनों के द्वारा शौर्य दिवस के रूप में मनाया जाता है।

क्या इस बार उच्चतम न्यायालय के फैसले का इंतजार नहीं करते हुए राम मंदिर निर्माण की शुरुआत 6 दिसम्बर से हो जाएगी?

आपकी इस बारे में क्या राय है? कृपया कमेंट बाॅक्स में अपनी राय जरूर लिखें व हमको फाॅलो भी करें।

Read more...

अभियान रखो ताक पर वोट जुटाओ साख पर

कासगंजः भारतीय जनता पार्टी का एक बड़ा अभियान  है बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ। इस अभियान को भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना बताते हुए इसके लिये पूरे भारतवर्ष में अभियान चला रही है।

उत्तर प्रदेश राज्य में भी इस अभियान को लेकर बेहद उत्साहपूर्वक भारतीय जनता पार्टी के कार्यक्रम जिला स्तर पर किये जा रहे हैं पर इस अभियान में योजना को ताक पर रखकर केवल इस योजना को सदस्यता अभियान को सदस्यता बढ़ाओ अभियान बना दिया गया है।


हाल ही में भारतीय जनता पार्टी ने अपने कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने के लिये विभिन्न प्रकोष्ठों का गठन किया और अब क्षेत्रीय स्तर पर जिलावार बैठकों का सिलसिला जारी है।

इस अभियान की हाल ही हुई कासगंज जिला की बैठक में भारतीय जनता पार्टी की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की उत्तर प्रदेश संयोजिका व बृज क्षेत्र जिसके कि अंतर्गत करीब 16 प्रमुख जिले आते हैं, उसमें क्षेत्रीय अध्यक्ष व प्रदेश की संयोजिका व अधिकारियों के द्वारा अभियान के नाम पर वोट जुटाने को प्रमुखता दी गई।

योजना को मूर्तरूप रूप देने की किसी भावी रणनीति की जगह सभी जिला संयोजकों व पदाधिकारियों को केवल एकसूत्रीय पाठ पढ़ाया गया कि 2019 के चुनाव करीब हैं और कमसे कम 1000 नई महिला सदस्यों को जोड़ने का लक्ष्य प्रत्येक को दे दिया गया।

ऐसे में यह समझना अनुचित नहीं होगा कि बैठक में सदस्यता अभियान के जो फॉर्म दिखाये गए उन पर भी योजना बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का अधिकारिक लोगो छपा होना भी इस खबर की पुष्टि करता है।

Read more...

इन्हें भी पढ़ें

loading...
Info for bonus Review William Hill here.